Moneycontrol » समाचार » आपका पैसा

कैसे सीखें Savings की ABCD, ऐसे करें शुरुआत तब बनेगी बात

पैसे बचाने से पहले आपको ये सारी चीजें समझनी चाहिए।
अपडेटेड Jun 10, 2019 पर 14:16  |  स्रोत : Moneycontrol.com

अक्सर हम सेविंग करने की कोशिश करते हैं लेकिन कोई स्ट्रेटजी या सही तरीका ना पता होने की वजह से नतीजे वह नहीं निकल पाते, जिनकी हमें उम्मीद होती है। सेविंग्स करने के लिए या फिर अपने खर्चों को समझने के लिए अपनी मनी पर्सनैलिटी को समझना जरूरी है। जी हां, सबकी एक मनी पर्सनैलिटी होती है, आप कैसे खर्च करते हैं, आप पैसे को किस तरीके से देखते हैं, पैसा आपकी प्राथमिकताओं में कहां आता है, ये सारी बातें आपकी मनी पर्सनैलिटी का हिस्सा हैं। अपनी मनी पर्सनैलिटी को समझकर आप अपनी सेविंग्स को ज्यादा इफेक्टिव बना सकते हैं। अपनी मनी पर्सनैलिटी को समझकर आप अपने फाइनेंशियल गोल्स पूरे कर सकते हैं।


हम आपको यहां सेविंग्स का ककहरा बता रहे हैं। पैसे बचाने से पहले आपको ये सारी चीजें समझनी चाहिए-


- समझिए कि आप किस वजह से बचत कर रहे हैं। अगर आपको पता होगा कि आप को सेविंग किसलिए करनी है तो आपके पास उस गोल को पूरा करने के लिए एक पूरा खाका मौजूद होगा। आपको पता होगा कि आपको कितने पैसे की जरूरत है और आपको इसके लिए कितने टाइम की जरूरत पड़ेगी। अपनी जरूरत समझने के बाद आप अच्छे फाइनेंशियल डिसीजन ले पाएंगे। इसके लिए आप एक फाइनेंशियल वर्कशीट बना पाएंगे, एक बेहतर प्लान बना पाएंगे।


- अपने कैश फ्लो को समझिए। ये देखिए कि आप कितना कमाते हैं और कितना खर्च करते हैं। इसका हिसाब-किताब रखना बहुत जरूरी है। अपने खर्चों का हिसाब रखने के लिए अपनी बजट वर्कशीट जरूर बनाएं। इससे आपको पता होगा कि आप जितना कमा रहे हैं उसके हिसाब से आपको कितना खर्च करने की जरूरत है और आप कितना बचा सकते हैं।


- कुछ भी खरीदने से पहले अच्छी तरह जांच परख लें। किसी भी चीज पर पैसे खर्च करने से पहले एक बार उसके दाम की तुलना दूसरी जगहों से जरूर कर लें। कभी भी सामान एक जगह से देखकर तुरंत ही नहीं खरीदना चाहिए। बाजार में उसका दाम अलग-अलग जगहों पर कितना है, इसकी तुलना करके ही उस चीज को खरीदने का फैसला करना चाहिए। इससे आप काफी हद तक पैसे बचा सकते हैं।


- अपने पैसे की चिंता आपको करनी होगी। जाहिर है सेविंग्स आपको करनी है, इनकम आपकी है और खर्चे आपके हैं तो आपको ही अपने पैसों की चिंता करनी होगी। अगर आपने कोई फाइनेंशियल प्लानर या एडवाइजर भी रखा हुआ है तो भी अपने पैसों के स्रोत, अपने फैसलों और अपने नतीजों की जिम्मेदारी आपकी है। अपने इन्वेस्टमेंट को ट्रैक करें, अपने खर्चो को ट्रैक करें और अपने पैसों के फ्लोर पर नजर रखें।


- बचत में भरोसा रखिए उधारी में नहीं। उधार लेना तभी ठीक होता है जब इससे आपको कोई फायदा हो रहा हो। इससे आपके नेटवर्थ में बढ़त हो रही हो। उधार लेकर चुकाते रहना कोई समझदारी का काम नहीं। कम इंटरेस्ट रेट पर लोन लेने की स्थिति में भी आप सेविंग्स नहीं कर रहे होते, इसलिए उधार या लोन लेने से बचें।


- जितनी जल्दी सेविंग्स करना शुरू करेंगे, उतना अच्छा होगा। जितनी जल्दी आप अपने पैसे बचाना शुरू करेंगे या इन्वेस्ट करना शुरू करेंगे उतनी जल्दी आपका पैसा बढ़ेगा। ये समझिए कि आप छोटी रकम भी निवेश कर रहे हैं तो लंबी अवधि में आपको इससे बड़ा फायदा होगा।