Moneycontrol » समाचार » आपका पैसा

New PPF Rules: बदल गए हैं ये 5 नियम, आपको जानना है जरूरी

PPF के कुछ नियमों बदलाव किया गया है। मौजूदा समय में PPF अकाउंट में 7.9 फीसदी ब्याज दर मिलती है।
अपडेटेड Feb 25, 2020 पर 10:31  |  स्रोत : Moneycontrol.com

सरकार ने पिछले साल छोटी बचत योजना Public Provident Fund (PPF) से संबंधित नियमों में बदलाव किया था। अब डिपार्टमेंट ऑफ पोस्ट्स ने प्रक्रियात्मक नियमों में बदलाव कर दिया है। इस बदलाव के कारण पीपीएफ के नियमों में प्रक्रियात्मक बदलाव हुए हैं। पब्लिक प्रोविडेंट फंड केंद्र सरकार की एक कानूनी योजना है। जिसे PPF एक्ट 1968 के प्रावधानों के तहत बनाया गया है डिपार्टमेंट ऑफ पोस्ट्स (Department of Posts) ने नियमों के बदलाव के बारे में जानकारी दी है। मौजूदा समय में PPF अकाउंट में 7.9 फीसदी की ब्याज दर मिलती है। 


आइय जानते हैं नियमों में क्या हुए हैं बदलाव


1 -  PPF अकाउंट की मैच्योरिटी पीरियड 15 साल की होती है। अगर आप इस अकाउंट को अगले 5 साल के लिए बढ़ाना चाहते हैं तो मैच्योरिटी पीरियड खत्म होने के एक साल पहले फॉर्म 4 जमा करना होगा। पहले निवेशकों को फॉर्म H जमा करना होता था। 



2 – इससे पहले PPF अकाउंट खोलने के लिए मिनिमम अमाउंट में कुछ बदलाव किया गया है। ये बदलाव मिनिमम अमाउंट और एक फिस्कल ईयर में किए जाने वाले योगदान की संख्या में बदल दिया गया है। योगदान राशि 50 रुपये के मल्टीपल में होना चाहिए। एक फिस्कल ईयर में 1.5 लाख से अधिक नहीं होना चाहिए।


3 – अगर आपका पता बदल गया हो, तो PPF अकाउंट को समय से पहले बंद कर सकते हैं। इसके पहले PPF अकाउंट को विशेष परिस्थितियों में ही बंद करने की अनुमति दी थी।


4 – PPF अकाउंट होल्डर, अकाउंट खोलने के तीसरे से छठे फाइनेंशियल ईयर के बीच लोन लोने के लिए आवेदन कर सकता है। PPF बैलेंस पर लोन वालों के लिए सरकार ने ब्याज दर को 2 फीसदी से घटाकर 1 फीसदी कर दिया था।


5 – डिपार्टमेंट ऑफ पोस्ट्स के सर्कुलर में कहा गया है कि PPF अकाउंट होल्डर को 36 महीने में लोन चुकाना होता है। अगर समय से लोन नहीं चुकाया तो 6 फीसदी प्रति वर्ष की दर से ब्याज लगाया जाएगा। 
 
सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।