Moneycontrol » समाचार » बाज़ार खबरें

After The Bell: बाजार में कंसोलीडेशन जारी, सोमवार को बाजार में क्या हो निवेश रणनीति

बाजार में आखिरी कारोबारी घंटे में जोरदार बाउंस बैंक देखने को मिला और बाजार निचले स्तरों से सुधर कर सपाट बंद हुआ.
अपडेटेड Jun 19, 2021 पर 11:05  |  स्रोत : Moneycontrol.com

मिलेजुले ग्लोबल संकेतों के बीच भारतीय बाजार भी आज मिलेजुले ही बंद हुए। यूएस फेड की तरफ से 2023 तक रेट हाईक की तैयारी के संकेत और बॉन्ड खरीद प्रोग्राम पर लगाम की तैयारी को देखते हुए मार्केट सेंटीमेंट पर दबाव दिखा। बाजार में आज लगातार तीसरे दिन उतार-चढ़ाव देखने को मिला लेकिन कारोबार के अंत में ये सपाट बंद हुआ।


इंट्रा डे  में एक  प्वाइंट ऐसा था जब सेंसेक्स 722 अंक फिसल गया था और निफ्टी ने नीचे की तरफ 15,450.90 का स्तर छू लिया था। हालांकि बाजार में आखिरी कारोबारी घंटे में जोरदार बाउंस बैंक देखने को मिला और बाजार निचले स्तरों से सुधर कर सपाट बंद हुआ।


आज के कारोबार में सेंसेक्स  21 अंक यानी 0.04 फीसदी की बढ़त के साथ  52,344.45  के स्तर पर बंद हुआ। वहीं, निफ्टी 8 अंक यानी  0.05 फीसदी की कमजोरी के साथ 15,683.35 के स्तर पर बंद हुआ है। आज छोटे-मझोले  शेयरों को दिग्गजों की तुलना में ज्यादा बड़ा झटका लगा है। BSE Midcap और Smallcap इंडेक्स आज 0.70  फीसदी और  0.89 फीसदी कमजोरी के साथ बंद हुए हैं।


Geojit Financial Services के विनोद नायर का कहना है कि बाजार फेड पॉलिसी और मिलेजुले ग्लोबल संकेतों को देखते हुए कंसोलीडेशन के फेज में है जिसके चलते काफी ब्रॉड बेस्ड बिकवाली देखने को मिल रही है। लगता है कि ग्लोबल मार्केट फेड के हालिया बयान को हजम कर चुका हो इसी के चलते यूएस बॉन्ड ईल्ड की गर्मी भी निकल रही है।


उन्होंने आगे कहा कि कीमतों में आई हालिया बढ़त पर नियंत्रण के लिए चीन के मेटल रिजर्व को बेचने के फैसले ने मेटल सेक्टर के सेंटीमेंट पर दबाव बनाया है। बाजार थोड़े समय के लिए कंसोलीडेशन मोड में रह सकता है जो निवेशकों के लिए गिरावट में खरीद का अच्छा मौका होगा।


अब सोमवार के लिए क्या हो रणनीति
 
मोती लाला ओसवाल (Motilal Oswal Financial) के चंदन तापड़िया (Chandan Taparia) का कहना है कि निफ्टी ने डेली स्केल पर एक बियरिश कैंडल बना लिया है लेकिन लॉन्ग लोअर शैडो की उपस्थिति इस बात का संकेत है कि हर गिरावट पर खरीदारी हुई है। निफ्टी को 15,800 -15,900 के जोन में जाने के लिए  15,600 के ऊपर टिका रहने होगा। वहीं, नीचे की तरफ इसके लिए 15,500 -15,450 के जोन में सपोर्ट नजर आ रहा है।


Religare Broking के अजीत मिश्रा का कहना है कि किसी बड़े इवेंट के अभाव में अब बाजार की नजर ग्लोबल संकेतों पर होगी। घरेलू मोर्चे पर देखें तो मॉनसून की प्रगति और टीकाकरण से जुड़ी खबरों पर बाजार की नजर होगी।


बाजार में अभी और कंसोलीडेशन के संकेत मिल रहे हैं। लेकिन निफ्टी जब तक 15400 का स्तर होल्ड करने में कामयाब रहता है तब तक रुझान पॉजिटिव साइड में ही रहेगा। बाजार में गिरावट पर चुनिंदा क्वालिटी शेयरों में खरीदारी की निति अपनाने की सलाह होगी।


Kotak Securities के श्रीकांत चौहान का कहना है कि निफ्टी के लिए 15,400 और संसेक्स के लिए 51,800 का स्तर काफी अहम होगा और जब तक ये इसके ऊपर टिके हुए हैं तब तक इनके 15,800-15,900/52,600-52,850  को स्तर तक जाने की संभावना बनी हुई है। इसके ऊपर भी ये इंडेक्स 16,050-16,130/ 53,100-53,300 तक जा सकते हैं।


दूसरी तरफ अगर ये 15,400/51,800 के नीचे फिसले हैं तो फिर हमें और कमजोरी देखने को मिल सकती है। अलग-अलग सेक्टरों पर नजर डालें तो नियर फ्यूचर में  capital goods, infrastructure और telecom आउट परफार्मेंस देखने को मिल सकता है।


कैपिटल वाया (CapitalVia Global Research) के आशीष बिस्वास (Ashis Biswas) ने बाजार पर अपनी राय रखते हुए कहा कि बाजार में आज सुस्ती देखने को मिली और इसने 15600 के सपोर्ट लेवल को होल्ड करने की कोशिश की और इसमें सफलता भी मिली। बाजार को उम्मीद है कि 15,600 का स्तर निफ्टी के लिए सपोर्ट का काम करेगा। टेक्निकल इंडीकेटर भी बाजार में साइडवेज करेक्शन का संकेत दे रहे हैं। बाजार के एक बार फिर ऊपर का रुख पकड़ने के पहले अभी कुछ और कारोबारी सत्रों में हमें साइडवेज करेक्शन देखने को मिल सकता है।


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें.