Moneycontrol » समाचार » बाज़ार खबरें

सीरो सर्वे में खुलासा, बच्चों को कोरोना की तीसरी लहर से ज्यादा खतरा नहीं

बच्चों को कोरोना की तीसरी लहर से ज्यादा खतरा नहीं है। ये बात AIIMS की तरफ से किए गए सीरो सर्वे में सामने आई है।
अपडेटेड Jun 19, 2021 पर 15:15  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

कोरोना के मामलों लगातार उतार चढ़ाव जारी है। कल 67 हजार तक पहुंचने के बाद कल फिर आंकड़ा 62 हजार पहुंच गया। लेकिन बड़ी राहत की खबर ये है कि मरने वालों की संख्या तेजी से गिर रही है। एक और राहत की खबर ये आई है कि बच्चों को कोरोना की तीसरी लहर से ज्यादा खतरा नहीं है। ये बात AIIMS की तरफ से किए गए सीरो सर्वे में सामने आई है। आइए देखते है इस सर्वे में  क्या कहा गया है।



बच्चे बड़े बराबर !


WHO और AIIMS द्वारा जारी सीरो सर्वे में कहा गया है कि दूसरी लहर में काफी बच्चे संक्रमित हुए हैं। लगभग बड़ों के बराबर बच्चों में भी संक्रमण दर पाई गई है। बच्चों में सीरो पॉजिटिव दर 55.7 फीसदी है। बड़ों में सीरो पॉजिटिव दर 63.5 फीसदी है।


सीरो सर्वे से अनुमान


सीरो सर्वे से ये अनुमान लगाया गया है कि बच्चों को ज्यादा खतरा संभावित नहीं है। सीरो सर्वे में अनुमान जताया गया है कि थर्ड वेव में बच्चे, बड़े सब पर असर होगा। जरूरी नहीं, बच्चों पर ज्यादा असर हो। इस वेव में वायरस में ज्यादा म्यूटेशन से खतरा होगा।


सीरो सर्वे का दायरा


यह सर्वे 15 मार्च से 10 जून के बीच हुआ है और इस सर्वे में 4509 लोगों ने हिस्सा लिया।  इस  सर्वे में 3809 अडल्ट और 700 बच्चे शामिल हुए थे। इस सर्वे में 5 आबादी शंकुल शामिल थे। इसमें दिल्ली अर्बन और दिल्ली रूरल के लोग शामिल हैं।  गोरखपुर रूरल, भुवनेश्वर रूरल और अगलतला रूरल को लोग भी सर्वे में शामिल थे। गोरखपुर में सीरो पॉजिटिविटी - 87 फीसदी थी।

सीरो पॉजिटिविटी क्या?


इससे संक्रमण से लड़ने की क्षमता मिलती है। इसका मतलब शरीर में नेचुरल इम्यून एक्टिव होना है।


बच्चों की वैक्सीन आएगी


भारत में बच्चों के लिए जल्द ही 4 वैक्सीन संभावित हैं। बच्चों पर COVAXIN का ट्रायल जारी है। 2 से 18 साल के बच्चों पर इसका ट्रायल हुआ है। इसके साथ ही बच्चों के लिए भारत बायोटेक का नेजल टीका भी आ सकता है। इसके ट्रायल में  बच्चे भी शामिल हैं । यह वैक्सीन नाक से देने में सुविधाजनक भी है। वहीं कैडिला का ZyCov-D भी कतार में है। 12 से 18 साल के बच्चों पर ZyCov-D ट्रायल हो रहा है। Novavax को सीरम इंस्टीट्यूट बनाएगी। 



थर्ड वेव की तैयारी


डेल्टा+ वेरिएंट ने बढ़ाई चिंता बढ़ाई है। महाराष्ट्र में थर्ड वेव से लड़ने की तैयारी चल रही है। लापरवाही हुई तो महाराष्ट्र में जल्दी थर्ड वेव दस्तक दे सकता है।  जानकारों का कहना है कि ये तीसरी वेव एक महीने में भी आ सकती है जिसको ध्यान में रखते हुए महाराष्ट्र में बच्चों के लिए तैयारी की जा ररही है।


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें.