Moneycontrol » समाचार » बाज़ार खबरें

RailYatri से सफर बना आसान, जानिए कैसे खड़ा किया इस स्टार्टअप ने करोड़ों का रेवेन्यू

RailYatri के सफर पर नजर डाल रहे हैं जो मोबिलिटी स्टार्टअप्स में अलग जगह बना चुका है।
अपडेटेड Dec 10, 2019 पर 13:03  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

आज हम बात कर रहे हैं एक ऐसे ऐप की जो ट्रेन से यात्रा कर रहे करोड़ो लोगों को यात्रा को और आसान और आरामदायक बना रहा है। आज शो में हम RailYatri के सफर पर नजर डाल रहे हैं जो मोबिलिटी स्टार्टअप्स में अलग जगह बना चुका है। ट्रेन के लिए खाने बुक करना हो या ट्रेन के रिकॉर्ड के बारे में जानना हो, ये RailYatri एक दोस्त की तरह इन सभी जरूरतों को पूरी करने में मदद करता है।


PNR स्टेटस से लेकर रनिंग ट्रेन स्टेटस, टिकट बुकिंग और कंफर्म होने का अनुमान - इन सब के साथ ही ट्रेन का रिकॉर्ड - ये सब एक ऐप पर आप हासिल कर सकते हैं। ये ऐप है RailYatri जो ट्रेन से यात्रा करने वालों के लिए हर सुविधा और जानकारी दे रहा है। हाईजिनिक खाना चाहिए या ट्रेन से जुड़ी कोई भी जानकारी, इस लोकप्रिय ऐप पर सब मौजूद है। RailYatri 3 करोड़ से ज्यादा यात्रियों के भरोसा का साथी बन चुका है। कंपनी के फाउंडर मनीष राठी और उनके साथियों को लगा कि जहां एक तरफ मास-मोबिलिटी को आसान बनाने के लिए ऐप मौजूद हैं, वैसे ही रेल यात्रा को आसान बनाने की भी जरूरत है। और इसी सोच से शुरू हुआ RailYatri।


RailYatri ऐप की सुविधाओं लोगों को पैसा और समय बचाने में मदद तो करती ही है, लेकिन साथ ही यात्रा आरामदायक हो इसके लिए भी कई फीचर्स हैं। अगर रेल टिकट बुक ना हो पाई हो तो RailYatri की स्मार्ट बसों का इस्तेमाल कर सकते हैं। RailYatri की बस सेवा फिलहाल 20 शहरों में मौजूद है। ये बसें काफी हाई-एंड और लंबी यात्रा को ध्यान में रखकर बनीं हैं।


RailYatri ऐप 2014 में लॉन्च हुआ और 2016 तक इसकी इन्वेस्टर लिस्ट में इंफोसिस के को-फाउंडर नंदन निलेकणी भी शामिल हो चुके थे। कंपनी सालाना 400 फीसदी की ग्रोथ दर्ज कर रही है। करीब 2 करोड़ लोग इस ऐप को हर महीने इस्तेमाल कर रहे हैं। कंपनी की अधिक्तर सेवाएं मुफ्त हैं, लेकिन विशेष सेवाओं और कमिशन रेवेन्यू के मुख्य स्रोत हैं। RailYatri  का सालाना रेवेन्यू करीब 70 लाख डॉलर है। अगले साल के लिए कंपनी ने 2 करोड़ डॉलर रेवेन्यू का लक्ष्य पूरा करना चाहती है।