Q3 Result: L&T के मुनाफे में 4.9% की बढ़ोतरी, रिकॉर्ड स्तर पर ऑर्डर बुक

सालाना आधार पर कंपनी का मुनाफा 4.9 फीसदी बढ़कर 2,466.7 करोड़ रुपये हो गया है
अपडेटेड Jan 26, 2021 पर 10:02  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

Larsen & Toubro (L&T) ने अपने तीसरी तिमाही के नतीजे पेश कर दिए है। सालाना आधार पर कंपनी का मुनाफा 4.9 फीसदी बढ़कर 2,466.7 करोड़ रुपये हो गया है जबकि पिछले साल की तीसरी तिमाही में ये 2,352 करोड़ रुपये रहा था। CNBC-TV18 के पोल के मुताबिक इसके 2,110 करोड़ रुपये रहने का अनुमान था।


तीसरी तिमाही में कंपनी की आय 1.8 फीसदी घटकर के 35,596.4 करोड़ रुपये रही है जो कि पिछले साल की तीसरी तिमाही में 36,243 करोड़ रुपये रही थी।


तीसरी तिमाही में कंपनी के EBITDA में सालाना आधार पर 3.9 फीसदी की बढ़त देखने को मिली है और ये पिछले  साल के 4,118 करोड़ रुपये से बढ़कर 4,279.8 करोड़ रुपये रहा है। इसी तरह EBITDA Margin पिछले साल के 11.4 फीसदी से बढ़कर 12 फीसदी पर  पहुंच गई है।


तीसरी तिमाही में कंपनी के हैवी इंजीनियरिंग कारोबार की रेवेन्यू 0.4 फीसदी घटकर 803.4 करोड़ रुपये रही है जो पिछले साल के  तीसरी तिमाही में 806 करोड़ रुपये रही थी।


तीसरी तिमाही में  हैवी इंजीनियरिंग कारोबार का एबिट 15.1 फीसदी घटकर 134.7 करोड़ रुपये रहा है जो पिछले साल की तीसरी तिमाही में 159 करोड़ रुपये रहा था। तीसरी तिमाही में कंपनी के  हैवी इंजीनियरिंग कारोबार का एबिट मार्जिन 19.7 फीसदी से घटकर 16.8 फीसदी रही है।


तीसरी तिमाही में कंपनी के पावर बिजनेस कारोबार की रेवेन्यू 29.4 फीसदी बढ़कर 903.7 करोड़ रुपये रही है जो पिछले साल के तीसरी तिमाही में 698.3 करोड़ रुपये रही थी।


तीसरी तिमाही में  पावर बिजनेस कारोबार का एबिट 37.1 फीसदी घटकर 8.8 करोड़ रुपये रहा है जो पिछले साल की तीसरी तिमाही में 14 करोड़ रुपये रहा था। तीसरी तिमाही में कंपनी के पावर बिजनेस कारोबार का एबिट मार्जिन 2 फीसदी से घटकर 1 फीसदी रही है।


तीसरी तिमाही में कंपनी के डिफेंस  इंजीनियरिंग कारोबार की रेवेन्यू 2 फीसदी बढ़कर 1,024 करोड़ रुपये रही है जो पिछले साल के तीसरी तिमाही में 1,004.1 करोड़ रुपये रही थी।


तीसरी तिमाही में  डिफेंस  इंजीनियरिंग  कारोबार का एबिट 20.7 फीसदी घटकर 138.4 करोड़ रुपये रहा है जो पिछले साल की तीसरी तिमाही में 174.6 करोड़ रुपये रहा था। तीसरी तिमाही में कंपनी के डिफेंस  इंजीनियरिंग  कारोबार का एबिट मार्जिन 17.4 फीसदी से घटकर 13.5 फीसदी रही है।


तीसरी तिमाही में कंपनी के हाइड्रोकार्बन कारोबार की रेवेन्यू 0.7 फीसदी बढ़कर 4,422 करोड़ रुपये रही है जो पिछले साल के तीसरी तिमाही में 4,392.6 करोड़ रुपये रही थी।


तीसरी तिमाही में  हाइड्रोकार्बन कारोबार का एबिट बिना किसी बदलाव के पिछले साल के तीसरी तिमाही के 493 करोड़ रुपये पर स्थिर रहा है। इसी तरह हाइड्रोकार्बन कारोबार का एबिट मार्जिन 11.2 फीसदी से मामूली तौर पर घटकर 11.1 फीसदी पर रहा है।


Larsen & Toubro के नतीजों पर कंपनी के अधिकारिक बयान में कहा गया है कि तीसरी तिमाही में कंपनी के ऑर्डरबुक में सालाना आधार पर 76 फीसदी की रिकॉर्ड बढ़ोतरी देखने को मिली है। तीसरी तिमाही में कंपनी के ऑर्डरबुक 3.31 लाख करोड़ रुपये रही है।


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।