CBI ने नए आरोपपत्र में मेहुल चोकसी पर सबूत मिटाने का लगाया आरोप, गीतांजलि के पूर्व अधिकारी भी शामिल

देश से फरार चोकसी पर पहली बार सबूत नष्ट करने का आरोप लगाया गया है
अपडेटेड Jun 17, 2021 पर 10:08  |  स्रोत : Moneycontrol.com

केंद्रीय जांच ब्यूरो (CBI) ने पंजाब नेशनल बैंक (PNB) में 7,080 करोड़ रुपये से ज्यादा राशि की कथित धोखाधड़ी के मामले में गीतांजलि समूह (Gitanjali Group of Companies) की कंपनियों के पूर्व अंतरराष्ट्रीय प्रमुख सुनील वर्मा और अन्य के खिलाफ आरोपपत्र दायर किया है। इस मामले में समूह का मालिक भगोड़ा हीरा व्यापारी मेहुल चोकसी (Mehul choksi) वांछित है।


न्यूज एजेंसी पीटीआई के मुताबिक, अधिकारियों ने बुधवार को बताया कि सीबीआई द्वारा दायर पूरक आरोपपत्र में आरोपियों के तौर पर पीएनबी के दो अधिकारियों सागर सावंत तथा संजय प्रसाद और समूह के तहत आने वाले ब्रांड जिली और नक्षत्र के निदेशक धनेश सेठ को भी नामजद किया गया है।


चोकसी और उसकी कंपनियों के खिलाफ मामले में प्रथम आरोपपत्र दायर किए जाने के तीन साल से अधिक समय बाद पूरक आरोपपत्र ऐसे समय में दायर किया गया है जब भगोड़े हीरा कारोबारी चोकसी के खिलाफ डोमिनिका की अदालत में कानूनी कार्यवाही चल रही है।


हिंदुस्तान टाइम्स के मुताबिक, केद्रीय जांच ब्यूरो ने 10 जून को मेहुल चोकसी और 21 अन्य के खिलाफ पीएनबी घोटाले में एक नया आरोप पत्र दायर किया। इसमें भारतीय बैंकों का हजारों करोड़ रुपये लेकर देश से फरार चोकसी पर पहली बार सबूत नष्ट करने का आरोप लगाया गया है।


चोकसी को एंटीगुआ और बारबुडा से रहस्यमयी तरीके से गायब होने के बाद 24 मई को डोमिनिका में अवैध प्रवेश के मामले में गिरफ्तार किया गया था। इस पूरक आरोप पत्र में चोकसी पर धारा 201 (सबूत नष्ट करना), और धोखाधड़ी, आपराधिक साजिश और भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम के तहत आरोप लगाया गया है।


चोकसी पीएनबी घोटाला सामने आने से कुछ सप्ताह पहले जनवरी, 2018 में भारत से फरार हो गया था और तब से एंटीगा और बारबुडा में रह रहा है। चोकसी को डोमिनिका की हाई कोर्ट ने पड़ोसी एंटीगा और बारबुडा से रहस्यमय परिस्थितियों में गायब होने के बाद द्वीपीय देश में अवैध रूप से घुसने के मामले में जमानत देने से शनिवार को इनकार कर दिया।


भगोड़ने ने जनवरी 2018 में भारत से भागने से पहले ही, 2017 में कैरिबियाई द्वीपीय देश एंटीगुआ एवं बारबुडा की नागरिकता हासिल कर ली थी। चोकसी और उसके भतीजे नीरव मोदी पर कुछ बैंक अधिकारियों की मिलीभगत से PNB के साथ कथित तौर पर 13,500 करोड़ रुपये की धोखाधड़ी करने का आरोप है। नीरव मोदी अभी लंदन की एक जेल में बंद है। दोनों के खिलाफ CBI जांच कर रहा है।


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।