FY22 के Q1 में नेट डायरेक्ट टैक्स कलेक्शन 100% बढ़कर 1.85 लाख करोड़ रुपये पहुंचा, Advance Tax कलेक्शन 146% बढ़ा

देश का नेट डायरेक्ट टैक्स कलेक्शन वित्त वर्ष 2021-22 की पहली तिमाही में 15 जून तक 100% बढ़कर 1.85 लाख करोड़ रुपये से अधिक हो गया
अपडेटेड Jun 17, 2021 पर 08:33  |  स्रोत : Moneycontrol.com

कोरोना के सेकेंड वेव के कारण कई राज्यों में लॉकडाउन लगाया गया था। इस लिहाज से टैक्स के मोर्चे पर भारतीय अर्थव्यवस्था के लिए अच्छी खबर आई है। बुधवार को वित्त मंत्रालय की और से जारी किए गए आंकड़ों के मुकाबिक, देश का नेट डायरेक्ट टैक्स कलेक्शन (Net direct tax collection) वित्त वर्ष 2021-22 की पहली तिमाही में 15 जून तक 100% बढ़कर 1.85 लाख करोड़ रुपये से अधिक हो गया।

जबकि पिछले साल की समान अवधि Net direct tax collection 92,762 करोड़ रुपये रहा था। इसी तरह FY22 में अब तक एडवांस टैक्स कलेक्शन (Advance tax collection) 146% बढ़कर 28,780 करोड़ रुपए रहा। साथ ही मौजूदा वित्त वर्ष 2021-22 में अब तक 30,731 करोड़ रुपए का टैक्स रिफंड (Tax Refund) जारी किया गया है।

Nifty जून 2022 तक छू सकता है 17,250 का लेवल, डबल डिजिट रिटर्न के लिए 14 स्टॉक्स हैं ICICI Securities के टॉप पिक्स

वित्त मंत्रालय ने बताया कि 1.85 लाख करोड़ रुपये के डायरेक्ट टैक्स कलेक्शन में कॉर्पोरेशन टैक्स से सरकार को 73,365 करोड़ रुपये मिले। जबकि, पर्सनल टैक्स और सिक्योरिटी टैक्स मिलाकर कुल 1.11 लाख करोड़ रुपये से अधिक प्राप्त हुए। कोरोना के सेकेंड वेव के बावजूद इस तरह के टैक्स कलेक्शन से सरकार खुश है।

FY22 में अब तक केंद्र सरकार का ग्रॉस डायरेक्ट टैक्स कलेक्शन (Gross Direct tax collection) 2,16,602 करोड़ रुपये रहा जो FY21 की पहली तिमाही में केवल 1,37,825 करोड़ रुपये रहा था। 2,16,602 करोड़ रुपये के ग्रॉस डायरेक्ट टैक्स कलेक्शन में कॉर्पोरेट टैक्स से 96,923 करोड़, पर्सनल इनकम टैक्स और सिक्योरिटी ट्रांजैक्शन टैक्स से 1,19,197 करोड़ रुपये मिले।

Taking Stock: चार दिनों की लगातार तेजी थमी, US Fed के फैसले पर टिकी बाजार की नजर

वहीं, एडवांस टैक्स से 28,780 करोड़ रुपये मिलेस जिसमें कॉर्पोरेट एडवांस टैक्स 18,358 करोड़ रुपये और पर्सनल इनकम टैक्स 10,422 करोड़ रुपये रहा। जबकि ग्रॉस डायरेक्ट टैक्स कलेक्शन में TDS से 1,56,824 करोड़, सेल्फ असेसमेंट टैक्स से 15,343 करोड़, रेगुलर असेसमेंट टैक्स से 14,079 करोड़, डिविडेंड डिस्ट्रीब्यूशन टैक्स (DDT) से 1086 करोड़ और टैक्स अंडर माइनर हेड्स से 491 करोड़ रुपये मिले।

सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।