भारत को बड़ी कामयाबी, DRDO ने आकाश NG मिसाइल का किया सफल परीक्षण

Akash-NG मिसाइल 4,321 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से उड़ान भरती है
अपडेटेड Jan 26, 2021 पर 12:31  |  स्रोत : Moneycontrol.com

डीआरडीओ (DRDO) ने सोमवार को आकाश मिसाइल (Akash-NG) के नए संस्करण का सफलता पूर्वक परीक्षण किया। इसे Akash-NG यानी नई पीढ़ी की आकाश मिसाइल नाम दिया गया है। DRDO ने ओडिशा के तट से इंटीग्रेटेड टेस्ट रेंज से आकाश NG (न्यू जेनरेशन) मिसाइल का सफल प्रक्षेपण किया। यह सतह से हवा में मार करने में सक्षम है। इसे भारतीय वायुसेना के लिए खासतौर से बनाया गया है। चीनी और पाकिस्तानी सीमाओं पर तनाव को देखते हुए Akash-NG काफी कारगर साबित होगी। 


आकाश NG एक नई पीढ़ी का सरफेस-टू-एयर मिसाइल (Surface-to-Air Missile) है, जिसका उपयोग भारतीय वायुसेना द्वारा उच्च पैंतरेबाजी वाले हवाई खतरों को रोकने के उद्देश्य से किया जाता है। मिसाइल ने तय की गई सटीकता के साथ लक्ष्य को बेधा। परीक्षण में इंडियन एयरफोर्स के लिए तैयार किए गए अगली पीढ़ी के इस मिसाइल ने टारगेट को सफलतापूर्वक ध्वस्त किया। 


रक्षा मंत्रालय (Defence Ministry) की ओर से जारी एक आधिकारिक बयान में कहा गया है कि आकाश-NG एक नई पीढ़ी का सरफेस-टू-एयर मिसाइल है जिसका उपयोग भारतीय वायुसेना द्वारा हवाई खतरों को रोकने के उद्देश्य से किया जाता है। मिसाइल ने अपने लक्ष्य को ढूंढ निकाला और सटीकता के साथ उसे ध्वस्त कर दिया। बयान में कहा गया है कि आकाश मिसाइल का परीक्षण सभी मानकों पर सफल रहा।


आकाश मिसाइल का वजन 720 किलोग्राम है, जबकि इसकी लंबाई 19 फीट है। यह मिसाइल 60 किलोग्राम के भार वाले हथियारों को ले जाने में सक्षम है। इसकी मारक क्षमता 40 से 60 किलोमीटर तक की है। यह मिसाइल 4,321 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से उड़ान भरती है। यानी एक सेकेंड में 1.20 किलोमीटर। इसको एंटी मिसाइल के तौर पर भी उपयोग में लाया जा सकता है।


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।