Moneycontrol » समाचार » बाज़ार खबरें

रेंज बाउंड बाजार में BSE 500 में दिखी कमजोरी, लेकिन 42 स्मॉलकैप शेयरों ने मचाया तहलका

बीते हफ्ते सेंसेक्स 388.96 अंक यानी 0.73 फीसदी की गिरावट के साथ 52,586.84 के स्तर पर बंद हुआ.
अपडेटेड Aug 01, 2021 पर 08:59  |  स्रोत : Moneycontrol.com

30 जुलाई को खत्म हुए सप्ताह में भारतीय बाजार एक दायरे में बंधे दिखे और अंत में मिले-जुले घरेलू और विदेशी संकेतों के बीच 0.5 फीसदी गिरावट के साथ बंद हुए।


बीते हफ्ते सेंसेक्स 388.96 अंक यानी 0.73 फीसदी की गिरावट के साथ 52,586.84 के स्तर पर बंद हुआ। वहीं निफ्टी 93.05 अंक यानी 0.58 फीसदी की गिरावट के साथ 15,763 पर बंद हुआ। ब्रॉडर मार्केट पर नजर डालें तो बीते हफ्ते BSE स्माल कैप इंडेक्स में 1.3 फीसदी की और BSE मिड कैप इंडेक्स में 0.29 फीसदी की बढ़त देखने को मिली।


स्माल कैप स्पेस में 42 स्टॉक ऐसे रहे जिनमें 10-35 फीसदी की बढ़त देखने को मिली। इनमें HIL, NR Agarwal Industries, Inox Wind, Indian Metals & Ferro Alloys, Tejas Networks, Mahindra Logistics, GNA Axles, Olectra Greentech, Gujarat Heavy Chemicals और Shankara Building Products शामिल रहे।


Samco Securities की निराली शाह का कहना है कि बीते हफ्ते बाजार एक बड़े दायरे में काफी वोलेटाइल रहा। उन्होंने आगे कहा कि एशियाई बाजारों खासकर हॉन्गकॉन्ग के बाजार की उथल-पुथल का असर भारतीय बाजारों पर भी देखने को मिल रहा है। जिसके चलते भारतीय बाजार में भी निवेशकों के सेंटीमेंट पर प्रतिकूल असर पड़ा है।


इसके अलावा इस हफ्ते विदेशी संस्थागत निवेशकों से भी करीब 6,900 करोड़ रुपये की बिकवाली की। निराली शाह की ट्रेडर्स को सलाह है कि जब तक निफ्टी 15,550 के नीचे नहीं जाता है तब तक वो न्यूट्रल रुख बनाए रखें। अगर निफ्टी इस लेवल से नीचे जाता है तो फिर हमें इसमें एक शॉर्ट टर्म का करेक्शन देखने को मिल सकता है।


कल के कारोबार में BSE 500 सपाट बंद हुआ था। Alembic Pharmaceuticals, Suzlon Energy, Dr Reddys Laboratories, Intellect Design Arena, Firstsource Solutions और Symphony में 10 फीसदी तक की गिरावट देखने को मिली है। वहीं Mahindra Logistics, Gujarat Heavy Chemicals, JK Paper, Trident, Phillips Carbon Black और V-Mart Retail में 15-25 फीसदी की बढ़त देखने को मिली।


आगे कैसी रहेगी बाजार की चाल


Angel Broking के समीत चव्हाण का कहना है कि निफ्टी के लिए ऊपर की तरफ 15,850 और फिर 15,950 पर रजिस्टेंस नजर आ रहा है। वहीं नीचे की तरफ 15,550 और 15,450 का सपोर्ट है। अगर निफ्टी हमें ऊपर की तरफ रजिस्टेंस तोड़ते दिखता है तो फिर इसमें और तेजी आ सकती है। लेकिन अगर यह नीचे की तरफ अपना सपोर्ट तोड़ता है तो इसमें और गिरावट आ सकती है।


बाजार जानकारों का कहना है कि वीकली स्केल पर निफ्टी हैमर पैटर्न और लिस्टलेस ट्रेड के आगे के कारोबारी सत्रों में भी जारी रहने की उम्मीद है। शॉर्ट टर्म के लिए निफ्टी के लिए 15,850 के ऊपर टिके रहना काफी अहम है। अगर निफ्टी इस लेवल के ऊपर टिके रहता है तो हमें बाजार में 15,900-15,950 की तरफ तेजी आती दिख सकती है।


कैपिटल वाया के आशीष बिस्वास का कहना है कि दूसरे टेक्निकल इंडीकेटर से इस बात के संकेत हैं कि बाजार में एक छोटे दायरे में उतार-चढ़ाव देखने को मिल सकता है।


Deen Dayal Investments के मनीष हाथीरमानी का कहना है कि निफ्टी का शॉर्ट टर्म और मीडियम टर्म सपोर्ट 15,600-15,400 पर नजर आ रहा है। जबतक निफ्टी क्लोजिंग बेसिस पर इस लेवल को थामे रखता है तब तक इसमें और ऊपर जाने की संभावना रहेगी।


 


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें.