आईटी सेक्टरः भारत में छंटनी, अमेरिका में भर्ती! -
Moneycontrol » समाचार » बाज़ार खबरें

आईटी सेक्टरः भारत में छंटनी, अमेरिका में भर्ती!

प्रकाशित Fri, 12, 2017 पर 18:35  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

इस साल भारत की आईटी कंपनियों में काम कर रहे 56 हजार लोगों की नौकरी पर छंटनी की तलवार लटक रही है। रिपोर्ट्स के मुताबिक कुछ कंपनियों ने फरवरी से ही छंटनी शुरू भी कर दी है और बाकी सही वक्त का इंतजार कर रही हैं। दरअसल, कंपनियां हर साल अप्रेजल में उन कर्मचारियों को सबसे निचली कैटगरी में डाल देती हैं, जिन्हें बाहर का रास्ता दिखाना हो। वैसे तो इसमें हर लेवल के कर्मचारी हैं लेकिन सबसे ज्यादा तादाद 6-7 साल अनुभव वाले युवा इंजीनियरों की है।


कंपनियां बदलती जरूरतों को वजह बताती हैं, लेकिन असल में ग्रोथ और मुनाफे का दबाव, ग्लोबल फैक्टर्स और पिछली गलतियों का भी बड़ा हाथ होता है। क्या है मौजूदा स्थिति और आगे क्या होगा। यह कंपनियां अप्रेजल के लिए ज्यादा कठोर पैमाने अपना रही है। हर साल औसतन वर्कफोर्स का 1-1.5 फीसदी बाहर जाता है। लेकिन इस साल वर्कफोर्स के 4.5 फीसदी को बाहर करने की तैयारी की जा रही है।


सालाना परफॉर्मेंस के आधार पर अप्रेजल बनता है। आईटी कंपनियां अप्रेजल में सबसे निचली कैटेगरी को खतरा होता है। निचली कैटेगरी मतलब नौकरी जाने की नोटिस कभी भी मिल सकती है।


गौरतलब है कि यूएस में लोकल भर्तियों पर ट्रंप का जोर है जिसके चलते एच1बी वीजा नियमों पर ट्रंप ने सख्ती का रुख अपनाया है। इसके तहत भारत में छंटनी कर अमेरिका में कर्मचारी भर्ती करने की जोर है। दरअसल, आईटी सेक्टर में ऑटोमेशन के बढ़ने के चलते नई टेक्नोलॉजी में कम लोगों की जरूरत महसूस की जा रही है। आईटी क्षेत्र डिजिटल युग के लिए बदल रहा है और इसके लिए नए टैलेंट की तलाश कर रही है। वहीं ग्लोबल इकोनॉमी में ठंडेपन की चुनौती बनी हुई है। आईटी सेक्टर की कंपनियों पिछले साल ग्रोथ और मुनाफे में गिरावट भी दर्ज की गई है।