Moneycontrol » समाचार » कंपनी समाचार

सेबी का नया नियम, जूनियर कर्मचारियों को सैलरी का 10% म्यूचुअल फंड में करना होगा निवेश

सेबी ने म्यूचुअल फंड हाउसों के जूनियर कर्मचारियों के लिए 1 अक्टूबर से यह नियम लागू करने का ऐलान किया है
अपडेटेड Sep 21, 2021 पर 11:08  |  स्रोत : Moneycontrol.com

मार्केट रेगुलेटर सेबी ने म्यूचुअल फंड हाउसों के जूनियर कर्मचारियों के लिए चरणबद्ध तरीके से "स्किन इन द गेम" नियम लागू करने का ऐलान किया है। इसके तहत इन कर्मचारियों की सैलरी का 10 पर्सेंट अब उस फंड डाउस म्यूचुअल फंड यूनिट में निवेश किया जाएगा।


वहीं 1 अक्टूबर 2022 से उनकी सैलरी का 15 पर्सेंट म्यूचुअल फंड यूनिट खरीदने में निवेश किया जाएगा। जबकि 1 अक्टूबर 2023 से सैलरी की 20 प्रतिशत राशि म्यूचुअल फंड यूनिट में निवेश होगी। सेबी ने कहा कि यह "स्किन इन द गेम" नियम 1 अक्टूबर 2022 से लागू होगा।


NDTV को खरीद रहा है अडानी ग्रुप? अटकलों के बीच कंपनी के शेयरों में लगा 10% का अपर सर्किट


क्या होता है "स्किन इन द गेम" नियम?
"स्किन इन द गेम" उस स्थिति को कहते हैं, जिसमें किसी कंपनी के मालिक या मोटी सैलरी पाने वाले दूसरे कर्मचारी अपनी ही कंपनी के शेयरों को खरीदने लगें। सेबी ने इस नियम के लिए जूनियर एंप्लॉयी की परिभाषा भी बताई है। इसके तहत वे कर्मचारी जिनकी उम्र 35 साल से कम है और जो किसी डिपार्टमेंट को हेड नहीं कर रहे हैं।


सेबी के इस नियम से फंड हाउस के सीईओ और फंड मैनेजर को भी थऊट नहीं दी है। नियमों के तहत, 1 अक्टूबर 2021 से इन कर्मचारियों की सैलरी का 20 पर्सेंट म्यूचुअल फंड यूनिट में निवेश होगा। साथ ही इस निवेश पर तीन साल का लॉक-इन पीरियड रहेगा।


NPS: नेशनल पेंशन स्कीम से मिलते हैं इनकम टैक्स के तीन-तीन फायदें, यहां जाने डिटेल


वहीं फंड हाउस के "डेजिग्नेटेड" कर्मचारियों को भी अपनी मौजूदा निवेश को इसमें एडजस्ट करने की सुविधा दी गई है। इस तरह इन कर्मचारियों की टेक-होम सैलरी पर तो असर नहीं पड़ेगा, लेकिन  अक्टूबर 2021 से उनका यह निवेश तीन साल के लिए लॉक हो जाएगा।


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।