46.2 फीसदी भारतीयों की लाइफ क्वालिटी है खराब, महिलाओं की ज्यादा खराब हालत: सर्वे

ये स्टडी CII के साथ फ्रांस की पैकेज्ड फूड एंड बेवरेज कंपनी डैनोन इंडिया द्वारा जारी किया गई
अपडेटेड Jul 24, 2021 पर 00:08  |  स्रोत : Moneycontrol.com

एक सर्वे में सामने आया है कि भारत में दो में से लगभग एक व्यस्क की क्वालिटी ऑफ लाइफ काफी खराब है। इसमें पुरुषों से ज्यादा महिलाओं का आंकड़ा ज्यादा है। सर्वेक्षण में शामिल लोगों के बीच फिजिकल और मनोवैज्ञानिक स्वास्थ्य, सामाजिक संबंधों का आकलन करने के  बाद ये रिपोर्ट तैयार की गई है। ये स्टडी भारतीय उद्योग परिसंघ (CII) के साथ फ्रांस की पैकेज्ड फूड एंड बेवरेज कंपनी डैनोन इंडिया द्वारा जारी किया गई थी। इसमें भारत में 2,700 से ज्यादा वयस्कों के जीवन की गुणवत्ता (Quality of Life) को कवर किया गया था।


Livemint के मुताबिक, रिपोर्ट सर्वे में हिस्सा लेने वालों के जीवन के चार पहलुओं-शारीरिक स्वास्थ्य, मनोवैज्ञानिक स्वास्थ्य, सामाजिक संबंधों और पर्यावरण पर आधारित थे। इसके बाद, सर्वेक्षण में शामिल लोगों को जीवन की अच्छी या खराब गुणवत्ता (QoL) में कैटेगराइज किया गया।


रिसर्चर इप्सोस ने मई-जून 2021 के बीच दिल्ली, मुंबई, लखनऊ, चेन्नई, इंदौर, हैदराबाद, कोलकाता और पटना में सर्वे किया। इस स्टडी में सामाजिक-आर्थिक वर्ग या SEC A और B में 30 से 50 साल की उम्र वर्ग के पुरुषों और महिलाओं को शामिल किया गया। दो भारतीय वयस्कों में से लगभग एक (46.2%) का जीवन खराब है, ऐसा इन फाइंडिग्स से पता चला है।


खराब क्वालिटी ऑफ लाइफ स्कोर के साथ कोलकाता के वयस्कों का सबसे ज्यादा प्रतिशत 65% दर्ज किया गया। इसके बाद चेन्नई (49.8%), दिल्ली (48.5%), पटना (46.2%), हैदराबाद (44.4%), लखनऊ (40%) और इंदौर (39.2%) है। सर्वे से पता चला कि अच्छी क्वालिटी ऑफ लाइफ में मुंबई के वयस्कों का सबसे ज्यादा प्रतिशत (68%) था।


दुर्भाग्य से, पुरुषों की तुलना में महिलाओं का शारीरिक स्वास्थ्य स्कोर भी कम है। सर्वेक्षण ने इसके लिए व्यक्तिगत और पर्यावरणीय कारकों के कारण महिलाओं के बीच शारीरिक गतिविधि के निम्न स्तर को जिम्मेदार ठहराया, जो शारीरिक गतिविधि के लिए खराब स्थिति पैदा करते हैं।


इसमें कहा गया, "महिलाओं का जीवन स्तर पुरुषों की तुलना में कम पाया गया, क्योंकि 50.4% महिलाओं का QoL खराब था। ऐसा लगता है कि बढ़ती उम्र के साथ लोगों का QoL खराब हो रहा। जवान लोगों की तुलना में बूढ़े लोगों के जीवन की क्विलाटी ज्यादा खराब है।"


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।