Moneycontrol » समाचार » राजनीति

नोटबंदी पर मचा सियासी घमासान

प्रकाशित Tue, 07, 2017 पर 16:22  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

नोटबंदी का एक साल पूरा होने से पहले आज सरकार ने नोटबंदी के फैसले का जोरदार बचाव किया। वित्त मंत्री अरुण जेटली ने खुद प्रेस कॉनफ्रेंस किया और कहा कि देश में यथास्थिति को बदलना जरूरी था और नोटबंदी ने देश को ईमानदार अर्थव्यवस्था देने का काम किया। नोटबंदी से शेल कंपनियों पर सख्ती हुई और कालेधन पर लगाम कसने में कामयाबी मिली। इसके साथ साथ ही नोटबंदी का एक मकसद कैश ट्रांजैक्शन के चलन को रोकना और डिजिटल ट्रांजैक्शन को बढ़ाना था और इसमें सरकार को बड़ी कामयाबी मिली है।


नोटबंदी से सिस्टम में पारदर्शिता आई है। नोटबंदी का फायदा कुछ लोगों को नजर नहीं आ रहा है। आने वाला वक्त नोटबंदी को याद रखेगा। 8 नवंबर 2016 एक बेहतर दिन के तौर पर गर्व के साथ याद किया जाएगा। नोटबंदी के बाद फर्जी कंपनियों पर कड़ी कार्रवाई हुई है। इनकम टैक्स विभाग ने 1150 शेल कंपनियों पर कार्रवाई की है। नोटबंदी भारतीय अर्थव्यवस्था के लिए ऐतिहासिक होगी नोटबंदी ने कालेधन और आतंकवाद पर अंकुश लगाने का काम किया है।


उधर नोटबंदी को एक साल पूरा होने से एक दिन पहले पूर्व पीएम मनमोहन सिंह ने केंद्र सरकार पर तीखा हमला बोला है। मनमोहन सिंह ने आरोप लगाया कि देश के लोगों पर नोटबंदी थोपी गई थी और अर्थव्यवस्था के साथ ही लोकतंत्र के लिए 8 नवंबर एक काला दिन है। इसके अलावा उन्होंने नोटबंदी को संगठित लूट बताया। अपने संबोधन के दौरान मनमोहन सिंह ने जीएसटी पर भी निशाना साधा और कहा कि जीएसटी और नोटबंदी, ये दोनों अर्थव्यवस्था पर कहर की तरह टूटे हैं, इन्होंने छोटे व्यापारियों की कमर तोड़ दी है।


वहीं नोटबंदी को लेकर विपक्ष के आरोपों का भी वित्त मंत्री अरुण जेटली ने जवाब दिया। उन्होंने कहा 2जी घोटाला को अंजाम देने वाले नोटबंदी को लूट बता रहे हैं।