आज से खरीद सकते हैं सस्ते में सोना, साल के आखिर में मोदी सरकार दे रही है आखिरी मौका

आज से खरीद सकते हैं सस्ते में सोना, साल के आखिर में मोदी सरकार दे रही है आखिरी मौका

आखिरी बार मोदी सरकार सस्ते में सोना खरीदने का आखिरी मौका दे रही है।

अपडेटेड Nov 29, 2021 पर 2:54 PM | स्रोत : Moneycontrol.comgold2FB

Sovereign Gold Bonds: इस साल में आखिरी बार मोदी सरकार सस्ते में सोना खरीदने का आखिरी मौका दे रही है। Sovereign Gold Bonds की इस साल की आखिरी सीरिज आज 29 नवंबर से खुल गई है और ये पांच दिनों तक चलेगी। इस बार एक ग्राम सोने की कीमत 4,791 रुपये तय की गई है। ऑनलाइन पेमेंट करने पर 50 रुपये की छूट भी मिलेगी।

मोदी सरकार सस्ते में बेच रही है गोल्ड

सरकार द्वारा जारी सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड का सब्सक्रिप्शन सॉवरेन गोल्ड बांड में निवेशक को फिजिकल रूप में सोना नहीं मिलता। हालांकि, ये गोल्ड फिजिकल गोल्ड की तुलना में अधिक सुरक्षित है। अभी मार्केट में 1 ग्राम गोल्ड का रेट 4,800 रुपये से अधिक है। ऐसे में आपको मोदी सरकार सस्ते में गोल्ड बेच रही है।

कैसे खरीद सकते हैं सोना

इन सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड की खरीदारी आप मान्यता प्राप्त स्टॉक एक्सचेंजों जैसे NSE, BSE से कर सकते हैं। इसके अलावा आपका अपना बैंक पब्लिक सेक्टर या प्राइवेट बैंक भी गोल्ड बॉन्ड को खरीदने का विकल्प देते हैं। स्टॉक होल्डिंग कॉर्पोरेशन ऑफ इंडिया (SHCIL) और पोस्ट ऑफिसों से भी से इसकी खरीद की जा  सकती है। ये ध्यान में रखें कि स्मॉल फाइनेंस बैंकों और पेमेंट बैंकों से इसकी बिक्री नहीं होती।

Bitcoin को करेंसी के रूप में मान्यता देने का कोई प्रस्ताव नहीं: FM निर्मला सीतारमण

इतना मिलेगा ब्याज

सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड (Sovereign Gold Bond Scheme) की परिपक्वता अवधि 8 सालों की होगी। इसमें 5 साल बाद अगले ब्याज भुगतान की तारीख पर बॉन्ड से निवेश निकालने का भी विकल्प होगा। इसमें आप 1 ग्राम सोने की खरीदारी से निवेश कर सकते हैं। इस इश्यू  में  2.5 फीसदी सालाना की दर से ब्याज मिलेगा। ये ब्याज  हर 6 महीने में आपके अकाउंट में क्रेडिट हो जाएगा।

मिलती है टैक्स छूट

इसकी बिक्री पर होने वाले लाभ पर आयकर नियमों के तहत छूट के साथ और कई लाभ मिलेंगे। सरकार की ओर से गोल्ड बॉन्ड में निवेश के लिए यह वित्त वर्ष 2021-22 की चौथी कड़ी है। वित्त मंत्रालय ने एक बयान में बताया कि सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड मई से लेकर सितंबर के बीच छह किस्तों में जारी किए जाएंगे।

Covid-19 Omicron: 13 देशों में दस्तक दे चुका है कोरोना का ये नया घातक वेरिएंट, यहां देखें पूरी लिस्ट

2015 में शुरू हुई थी योजना

सरकार ने इस स्कीम की शुरुआत 2015 में की थी। सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड्स (Sovereign Gold Bond) गवर्नमेंट सिक्योरिटीज हैं। ये फिजिकल गोल्ड के विकल्प के तौर पर शुरू किया गया।

MoneyControl News

MoneyControl News

First Published: Nov 29, 2021 2:54 PM